नरवा, गरूवा, घुरवा और बाड़ी जिले में 136 गौठान के लिए 22 करोड़ 24 लाख 49 हजार की स्वीकृति

नरवा, गरूवा, घुरवा और बाड़ी
जिले में 136 गौठान के लिए 22 करोड़ 24 लाख 49 हजार की स्वीकृत

रायपुर// जांजगीर-चांपा कृषि प्रधान जिला है। महानदी, हसदेव नदी, लीलागर नदी से यहां का भूजल स्त्रोत किसानी कार्य के लिए अनुकूल है। हसदेव-बांगो बांध से जिले का सर्वाधिक कृृषि रकबा सिंचित है।

यहां के मेहनतकश किसान इस अनुकूलता का भरपूर लाभ लेते हैं। राज्य सरकार ने ग्रामीण अर्थव्यवस्था को अधिक बेहतर बनाने के लिए नरवा, गरूवा, घुरवा और बाड़ी को माॅडल तरीके से संरक्षित करने की योजना प्रारंभ की है। गौठान और चारागाह की व्यवस्था करके पारंपरिक एवं प्रचलित व्यवस्था को बनाये रखने की योजना है।

 


प्रस्तावित गौठान के लिए- न्यूनतम तीन एकड़ भूमि में औसत 300 पशुओं के लिए बनाया जाएगा। गौठान के चारो तरफ बाहरी परिधि में वाटर एब्जाॅप्र्सन ट्रेन्च, मध्य में चैन लिंक्ड वायर मेश फैसिंग, अंदरूनी परिधि में पैटल पु्रफ ट्रेन्च, गोबर संग्रहण के लिए कम्पोस्टिंग पिट, पानी के सोलर ऊर्जा से संचालित पंप, जल निकासी हेतु नाली, कीचड़ से बचाव के लिए मुरूम/स्टोेन डस्ट का बिछाव किया जाएगा। पशुओं के पीने के लिए पानी की टंकियां, कम्पोस्ट खाद निर्माण के लिए नाडेप तथा वर्मी कम्पोस्ट टंकियां तैयार की जाएगी।
गौठान परिसर में खाद बनाने के लिए घुरवा विकसित किया जाएगा। जिससे खाद व कंडा करने की भी योजना है। खाद व कंडे को नीलाम अथवा उपयोग किया जा सकेगा। गोठान परिसर में पशुओं के लिए चारा भी लगाया जाएगा।
गांवों में ग्राम गौठान समिति द्वारा गौठान का संचालन किया जाएगा। चरवाहों की व्यवस्था की जाएगी। बीमार अक्षम गौधन एवं अन्य मवेशियों की देखभाल के लिए भी समिति कार्य करेगी। ऐसे मवेशी जिनके देखभाल के लिए पालक इच्छुक नहीं है, या लावारिश है। उन पशुओं के लिए आश्रय स्थल की रूप में कार्य किया जाएगा। सड़क आदि में बैठे लावारिश पशुओं को सुरक्षित आश्रय मिलेगा। सड़क दुर्घटना में कमी आएगी। गांवों व नगरों में स्वच्छता भी होगी। पशुपालक किसानों के पशुआंे को गोधुलीबेला में उनके घर तक पंहुचाने के लिए चरवाहा नियुक्त होंगे। देखभाल में लगे कर्मचारियों को रोजगार भी उपलब्ध होगा। मृत मवेशियों को चिन्हांकित स्थानों पर पहुंचाने की भी जिम्मेदारी समिति की होगी।
प्राप्त जानकारी के अनुसार जिला प्रशासन द्वारा 136 गौठान के लिए 22करोड़ 24लाख 49 हजार रूपये की स्वीकृति प्रदान की है। जिसमें महात्मागांधी नरेगा मद से कुल 21करोड़ 32 लाख 74 हजार रूपये स्वीकृत किया गया हैै। जिसमें 5 करोड़ 08 लाख 03 हजार रूपये मजदूरी के लिए एवं 16 करोड़ 24 लाख 71 हजार रूपये सामग्री के लिए शामिल है। इसके अलावा 14वें वित्त से 21लाख 74 हजार रूपये की स्वीकृति भी प्रदान की गई है। जनपद पंचायत अकलतरा और बम्हनीडीह में 12-12 गौठान स्वीकृत किया गया है। इसी प्रकार बलौदा में 13, डभरा में 20, नवागढ़ में 17, पामगढ़ में 11, सक्ती में 19, जैजैपुर और मालखरौदा में 16-16 गौठान की स्वीकृति प्रदान की गई है।


जनपद पंचायत अकलतरा – पकरिया, झूलन, तरौद, नरियरा, मुरलीडीह, तिलई, हरदी, करूमहु, अमरताल, अकलतरी, कटनई, साजापाली, कोटगढ़
जनपद पंचायत बलौदा- चारपारा, बिरगहनी, बछौद, महुदा, नवगवां, बोकरामुड़ा, औराईकला, कमरीद, बसंतपुर, कुलीपोटा, केराकछार, महुदा, जावलपुर
जनपद पंचायत बम्हनीडीह- गोविंदा, पुछैली, रिस्दा, खपरीडीह, बिर्रा, कपिस्दा, अमरूवा, पिपरदा, लखाली, सोंठी, झर्र, सरहर,
जनपद पंचायत डभरा- कटौद, केकराभांठा, अकोलजमोरा, सराईपाली, झनकपुर, बघौद, भजपुर, बालपुर, रामभांठा, पुटीडीह, खैरा, फरसवानी, ठाकुरपाली, खरकेना, छुछुभांठा, कंवली, कबारीपाली, सुखदा, भैंसामुहान, बिलाईगढ़
जनपद पंचायत जैजैपुर- खजुरानी, तलवा, अरसिया, सेमराडीह, गुचकुलिया, सलनी, भातमाहुल, भोथीडीह, खम्हरिया, डोटमा, गुड़रूकला, कैथा, मल्दा, दतौद, भोथिया, नंदेली, रायपुरा, बोईरडीह, केकराभांठा, करौवाडीह, बहेराडीह,
जनपद पंचायत मालखरौदा- दर्राभांठा, बरभांठा, फगुरम, पिरदा, रनपोटा, बुंदेली, बड़ेसीपत, मरघट्टी, किरारी,डोमा, सुलौनी, सोनादुला, चांटीपाली, सकर्रा, छपोरा, छोटेसीपत
जनपद पंचायत नवागढ़- सिवनी, सरखों, खोखरा, तेंदूभांठा, पीथमपुर, जगमहंत, बोड़सरा, मरकाडीह, अमोरा, केसला, सेमरा, केरा, गौद, धाराशिव, मेहंदा, उदयभांठा
जनपद पंचायत पामगढ़- कोसीर, ससहा, भिलौनी, पेण्ड्री, पनगांव, चोरभट्ठी, खरगहनी, केसला, पचरी, खरखोद, पड़रिया
जनपद पंचायत सक्ती- पोरथा, डूमरपारा, चमराबरपाली, सेंदरी , जेठा, सोनगुड़ा, संुदरेली, नंदौरकला, रगजा, हरदा, सिंघनसरा, पतेरापालीकला, बासीन, बाराद्वार बस्ती, पलाड़ीकला, किरारी, अमलडीहा, रेड़ा,

दीपक कुमार यादव ,जांजगीर चांपा
हितेश मानिकपुरी रायपुर छत्तीसगढ़ ।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enjoy this blog? Please spread the word :)