Sat. Sep 26th, 2020

दुर्ग से रॉकेट लॉन्चिंग के लिए इसरो के वैज्ञानिकों की 8  सदस्यीय टीम पहुंची बीआईटी कॉलेज..

दुर्ग :-(प्रवीण मिर्जे), दुर्ग से रॉकेट लॉन्च ( किया जा रहा है। बीआईटी कॉलेज के प्रांगण से लगातार दो दिन ये काम किया जाएगा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (isro) की ओर से कॉलेज प्रांगण से रॉकेट लॉन्च किया जाएगा।

बीआईटी कॉलेज प्राचार्य डॉ अरुण अरोरा ने बताया कि इसके लिए इसरो (isro) के वैज्ञानिकों की टीम उनके कॉलेज में पहुंच चुकी है। हैदराबाद से आई इस टीम में 8 वैज्ञानिक है। ये वैज्ञानिक तमाम संसाधनों से लैस होकर बस से दुर्ग पहुंचे है।

दो दिन होगी लॉन्चिंग

  • अरोरा के मुताबिक गुरुवार व शुक्रवार दोनों दिन वैज्ञानिक रॉकेट लॉन्च कर दिखाएंगे।
  • वैज्ञानिकों द्वारा अंतरिक्ष विज्ञान से जुड़े तमाम रहस्यों से पर्दा उठाने के लिए सेमिनार भी किया जाएगा।
  • इच्छुक विद्यार्थी व लोग दोनों दिन इस कार्यक्रम सुबह 10 से शाम 5 बजे तक किसी भी समय आकर इस कार्यक्रम का लाभ ले सकेंगे।

ऐसा है आज का कार्यक्रम

  • गुरुवार को कार्यक्रम के पहले दिन इसरो के वैज्ञानिक पद्मश्री प्रेमशंकर गोयल 9:30 से 11 बजे के बीच व्याख्यान देंगे।
  • इस दौरान वे अंतरिक्ष विज्ञान व अनुसंधान के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों का ब्योरा देंगे।

10 हजार से ज्यादा विद्यार्थी ले रहे भाग

  • बीआईटी कॉलेज के प्राचार्य अरोरा के मुताबिक, इस कार्यक्रम के लिए 10 हजार विद्यार्थियों ने रजिस्ट्रेशन कराया है।
  • दुर्ग, भिलाई, राजनांदगांव, रायपुर व आस-पास के ग्रामीण अंचलों के विद्यार्थियों के बड़ी संख्या में आने का अनुमान है।
  • कार्यक्रम के लिए पास अनिवार्य नहीं होने की वजह से करीब 5-6 हजार आम लोगों के पहुंचने की भी उम्मीद है।

ऐसे होगी रॉकेट लॉन्चिंग

  • अरोरा के मुताबिक इसरो के वैज्ञानिक रॉकेट लॉन्च करेके दिखाएंगे।
  • ये विद्यार्थियों व आम लोगों को रॉकेट तकनीक समझाने के लिए एक प्रकार का डेमो होगा।
  • इस दौरान कॉलेज प्रांगण से करीब 70 से 80 फीट की ऊंचाई पर रॉकेट छोड़ा जाएगा।

ये खास शख्सियत भी पहुंचीं

  • इस कार्यक्रम को सफल बनान के लिए इसरो के हैदराबाद स्थित राष्ट्रीय सुदूर संवेदन केंद्र की डिप्टी डायरेक्टर जयश्री बोथले भी पहुंची हैं।
  • डॉ. विक्रम साराभाई जन्म शताब्दी वर्ष के उपलक्ष में केंद्र द्वारा यह लाइव डेमो व प्रदर्शनी का कार्यक्रम किया जा रहा है।
    देशभर से चुने 100 सेंटर, छग से दो
  • इसरो की ओर से लाइव डेमो व प्रदर्शनी के लिए देशभर से 100 सेंटर का चयन किया गया है।
  • इनमें से दो छत्तीसगढ़ के हैं।
  • बिलासपुर स्थित गुरु घासीदास विश्वविद्यालय में यह कार्यक्रम को हो चुका है।
  • जबकि दुर्ग में आज हो रहा है।
  • युवओं व विद्याथियों को अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में हो रहे अनुसंधानों से रूबरू कराने इसका उद्देश्य है।

ये होंगे परिणाम

  •  रॉकेट लॉन्चिंग के डेमो व वैज्ञानिकों से विद्यार्थियों को काफी फायदा होगा।
  • वे अंतरिक्ष वज्ञान व रॉकेट तकनीक को समझ सकेंगे।
  • इस विज्ञान के प्रति उनके मन में चल रही कई जिज्ञासाओं पर जानकारी मलेगी।
  • इसरो के वैज्ञानिकों  से सीधा संवाद करने को मिलेगा।
  • अंतरिक्ष विज्ञान की पढ़ाई के प्रति छात्र व युवा प्रेरित हो सकेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *